Saturday, February 07, 2009

बसंत

गेहूं की बाली है,अमवा की डाली है
चारों ओर बहती पवन मतवाली है।

पीताम्बरी सरसों कैसे लजाती है ,
झूम झूम कैसे शरमाती इतराती है।

कोयलिया काली बावरी हुई जाती है ,
कुहू कुहू करती सबको तडपाती है।

नई कली कैसे मंद मंद मुस्काती है
तरु तरु नई कोपल नई आस जगाती है।

कचनार, ढाक पलाश में आग लग जाती है
मादक पछुआ जब उनको सहलाती है ।

सारी दिशायें कैसे मुखरित हो जाती हैं
बसंतागम की आहट जब पाती हैं।


7 comments:

विनय said...

बहुत सुन्दर कृति है

---
गुलाबी कोंपलें

mehek said...

manmohak rachana,ek dam lajawaab

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर गीत है।बधाई।

MUFLIS said...

प्रकृति के बेहद्द करीब ले जाती है
आपकी ये अनुपम रचना .....
नवगीत का मधुरिम आभास ....
बधाई . . . . .
---मुफलिस---

अनिल कान्त : said...

sachmuch bahut hi pyari rachna hai

सतीश चंद्र सत्यार्थी said...

वाह वाह!!
मन को वसंती वसंती कर दिया आपने.

Vijay Kumar Sappatti said...

poonam ji , namaskar,

main pahli baar aapke blog par aaya hoon ,, aapki saari rachnaaye padhi , mujhe aapki kavitaye bahut pasadn aayi aur specially ye waali kavita mujhe bahut acchi lagi , basant ke rang ji uthe hai aapki kavita me ..

aapka dhanywad.

regards

vijay
www.poemsofvijay.blogspot.com